Mausam
Lucky Ali Lyrics


मौसम भी यार है गुलशन घरबार है
बरखा का साथ है कैसी सौगात है
अब जाए कब आए कैसे बोलो
जिनके साथ दिल लगता है उनके साथ होलो
जाना कहाँ था हमको कहाँ हम चल दिए
छोटी छोटी हसरातों में हम घुल मिल गये
सोच के क्या निकले थे यह क्या हम कर गये
जो कहते वो नई करते ना इन में रेह गये
रब यह जाने अब क्या होगा रास्ता है मुश्किल
किस चौराहे पे खड़े है यार

कितने अरमान है कैसे अंजाम है
बरसों का काम है लम्हों पे नाम है
देर से आए जैसे आए बोलो
जिनके साथ दिल लगता है उनके साथ हो लो
मिट्टी का बर्तन हो बर्तन में हो सोना
सोने के बर्तन में मिट्टी ऐसा नई होना
आसमान अगर छत है ये धरती बिछोना
अंबार को दे साया कौन धरती का क्या कोना
रब ये जाने कैसा होता केहना है मुश्किल
है उस पार भी घरबार यार

चेहरा हिजाब है गेहरा जवाब है
सच है या ख्वाब है सब का हिसाब है
अब कैसे सबको बतलाए बोलो
जिनके साथ दिल लगता है उनके साथ होलो

हम्म हम्म हम्म हम्म
हम्म हम्म हम्म

Lyrics © Sony/ATV Music Publishing LLC
Written by: ASLAM, LUCKY ALI, Lucky Ali, Syed Aslam

Lyrics Licensed & Provided by LyricFind
To comment on specific lyrics, highlight them
Genre not found
Artist not found
Album not found
Song not found
Comments from YouTube:

Leap Of Faith

This song is a Metaphor for life ... 19 years it's been and still leaves me spiritually drunk.

Pankkaj Upadhayay

Really ? Lucky Ali sir ki song writting and music hai hi kuch aisa...🔥❤️👍

Shweta Singh Kirti

So true... my fav. till date

Ritesh Sinha

@plaksaleaf LA IS BEYOND rating///////

plaksaleaf

Sooo underated...dun know why!

surendra singh bhati

Sifar is the best album of Indipop...

Avl Shukla

Absolutely agree.

Nishant Kalley

Lucky Ali is a legend... 90's was the best years. Lucky to be teenage that time. Gully cricket / Kites / Kanche. Sports used to be changed as per the climate. Playing chupan chupaai / pittuk / baraf paani. Waited for hours to play these songs in Channel V / M TV. In 1996 I bough my walkman @ 900 Rs from my cash collected from my birthday...

Mir Ahmed Ali

What is pittuk?

Abhishek Sharma

Can be equated to Kabir ke dohe ...such an eternal truth

More Comments

More Videos